Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Channel (Join Now) Join Now

भारत की जनसंख्या कितनी है? ( Bharat ki Jansankhya kitni hai?)-2023

Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai
Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai
Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Channel (Join Now) Join Now

यदि आप भी यह जाना चाहते हैं कि भारत की जनसंख्या कितनी है?(Bharat ki Jansankhya kitni hai) भारत के राज्यों की कुल जनसंख्या कितनी है? एवं भारत विश्व में जनसंख्या की दृष्टि से कितने स्थान पर आता है?

तो यह सभी जानकारी आज के इस आर्टिकल में आगे विस्तार रूप से बताया गया है। एक अनुमान के अनुसार भारत विश्व में जनसंख्या की दृष्टि से दूसरे नंबर पर आता है।

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि 2030 तक भारत जनसंख्या की दृष्टि से विश्व का पहला देश बन जाएगा।

हमने अपने इस आर्टिकल में 1951 से लेकर 2023 तक भारत की जनसंख्या कितनी है? यह भी बताया है

तो आइए जाने कि Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai और इससे संबंधित सभी बातों को अपने इस आर्टिकल में अच्छे से समझते है।

भारत की जनसंख्या कितनी है 2023? (Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai 2023)

भारत की जनसंख्या कितनी है?(Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai) यह जाने से पहले हम लोग जानेंगे जनसंख्या क्या है?

जनसंख्या किसी जगह की देश में रहने वाले लोगों की संख्या को उस देश या जगह की जनसंख्या कहते हैंl

1951 में भारत में पहली बार जनगणना की शुरुआत हुईl 1951 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या 36 करोड़ थी।

लेकिन अब यह जनसंख्या बढ़ कर लगभग 141 करोड हो गई है जो कि बहुत ही ज्यादा हैl भारत में जनगणना हर 10 वर्षों पर की जाती है इससे पूर्व 2011 में जनगणना की गई थीl

भारत की जनसंख्या कितना है? (Bharat Ki Jansankhya Kitni Hai) इसकी जनसंख्या की जनगणना 2021 में होनी थी लेकिन कोरोनावायरस के आने से यह जनगणना टाल दी गई जो कि बढ़ाकर अक्टूबर 2023 तक टाल दी गई है।

भारत की जनसंख्या जिस प्रकार बढ़ रही है अगर इसे सही समय पर सीमित नहीं किया गया तो आने वाले समय में यह चीन से जनसंख्या की दृष्टि में आगे हो जाएगी।

चीन जो कि विश्व का सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश हैl भारत में हर महीने 10 लाख लोग रहने आते हैं जिस कारण भारत की जनसंख्या में धीरे-धीरे बढ़ोतरी हो रही है।

अनुमान लगाया जा रहा है कि 2030 तक भारत की जनसंख्या चीन की जनसंख्या से अधिक होगी l

1951 से लेकर 2023 तक भारत की जनसंख्या कितनी है?

भारत में जनसंख्या की गणना की शुरुआत 1951 में हुआ। तब से लेकर आज तक जनसंख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है। भारत में जनसंख्या की गणना प्रत्येक 10 वर्ष में कराई जाती है परंतु 2021 में कोरोना जैसे वैश्विकमहामारी के कारण जनसंख्या की गणना को अक्टूबर 2023 तक टाल दिया गया था।

तो आइए जानते हैं 1951 से 2023 तक भारत की जनसंख्या के आंकड़े –

जनगणना का वर्ष    कुल जनसंख्याजनसंख्या वृद्धि दर
  1951-1961   361,088,090      13.32%
  1961-1971   438,936,918      21.62%
  1971-1981   548,160,050      24.8%
  1981-1991   683,329,900      25%
  1991-2001   838,583,988      26.9%
  2001-2011 1,028,737,436      21.5%

2011 के जनगणना के अनुसार भारत की कुल आबादी  लगभग 121 करोड़ (1,210,193,422) थी। इसके बाद 2021 में जनगणना होना था परंतु कोरोना जैसे वैश्विक महामारी के कारण जनगणना के कार्यो को अक्टूबर 2023 तक टाल दिया गया। एक अनुमान के अनुसार 2023 में भारत की जनसंख्या 140 करोड़ है।

भारत की जनसंख्या अलग अलग धर्मों के अनुसार

भारत में विभिन्न प्रकार के धर्म तथा उन धर्म का पालन करने वाले लोग पाए जाते हैं इनमें हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई इत्यादि धर्मों के लोग भारत में रहते हैं।

2011 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या 121 करोड़ थी जिसमें से 96.63 करोड़ आबादी हिंदुओं की थी जो कि लगभग 79.8% हैl  भारत में करीबन 14.2 % मुस्लिम रहते हैं l

 विश्व का 12.7% मुस्लिम भारत में निवास करते हैं तथा विश्व में सबसे ज्यादा मुस्लिम इंडोनेशिया मे  निवास करते हैं l

Also Read :-

Home PageClick Here
BHAR OS KYA HAIClick Here
Bihar Jeevika Bharti 2023Click Here
IPL में कौन लेता है सबसे ज्यादा फीसClick Here
बिहार के शिक्षा मंत्री कौन है?Click Here
Chomu Meaning In HindiClick Here

भारत की जनसंख्या की आंकड़ा अलग अलग धर्मों के अनुसार-

    धर्म का नामजनसंख्या एवं जनसंख्या प्रतिशत
        हिन्दू   96.63 करोड़ ,   79.8%
       इस्लाम   17.18 करोड़,    14.2%
        सिख    2.08 करोड़,      1.72%
       ईसाई     2.8 करोड़,        2.3%
       बौद्ध    84.7 लाख,       0.7%
        जैन    44.8 लाख,       0.37%
अन्य धर्म के लोग    1.08 करोड़,      0.9 %

इस प्रकार भारत में विभिन्न प्रकार के धर्म तथा उन धर्मों को पालन करने वाले लोग निवास करते हैं l 

देश के विभिन्न राज्यों की जनसंख्या कितनी है?

देश के विभिन्न राज्यों की जनसंख्या कितनी है यह हम

आज के इस आर्टिकल में जानेंगे। भारत के पांच सबसे अधिक जनसंख्या वाले राज्यों के नाम जानेंगे एवं उन राज्यों की जनसंख्या कितनी है यह भी जानेंगे।

1. भारत के सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। उत्तर प्रदेश जनसंख्या की दृष्टि से भारत की सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य है  जिसकी जनसंख्या 20 करोड़ है l

2.उत्तर प्रदेश के बाद महाराष्ट्र भारत के सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य है। महाराष्ट्र जनसंख्या की दृष्टि से भारत का दूसरा राज्य है। जिसकी जनसंख्या तकरीबन 11 करोड़ 23 लाख 74 हजार है l

3. जनसंख्या की दृष्टि में भारत के तीसरे नंबर पर बिहार राज्य है जिसकी जनसंख्या तकरीबन 10 करोड़ है l जिसमें पुरुषों की संख्या 5.41 करोड़ है तथा महिलाओं की 4.96 करोड़ है l

4. चौथे नंबर पर पश्चिम बंगाल आती है जिसकी जनसंख्या तकरीबन 9 करोड़ है l इस प्रकार पश्चिम बंगाल जनसंख्या की दृष्टि में भारत का चौथा बड़ा राज्य है।

5. पांचवे नंबर पर भारत में जनसंख्या की दृष्टि से मध्य प्रदेश आती है जिसकी जनसंख्या करीबन 8.5 करोड़ है l

भारत के सर्वाधिक एवं न्यूनतम जनसंख्या वाले राज्य

भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। जिसकी जनसंख्या लगभग 20 करोड़ है। उत्तर प्रदेश में पुरुषों की कुल जनसंख्या 10 करोड़ 45 लाख है जबकि 9 करोड़ 53 लाख महिलाएं हैं।

यूपी के यदि जनसंख्या प्रतिशत की बात की जाए तो पुरुषों की जनसंख्या प्रतिशत 52.28% है एवं महिलाओं की जनसंख्या प्रतिशत 47.72 है।

वही देश के न्यूनतम जनसंख्या वाले राज्य की बात की जाए तो सिक्किम भारत का न्यूनतम जनसंख्या वाला राज्य है। सिक्किम की आबादी लगभग 6 लाख 10 हजार है। इनमें 3 लाख 23 हजार पुरुष एवं 2 लाख 87 हजार महिलाएं है।

भारत के सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व और न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाले राज्य

2011 के जनगणना के अनुसार, भारत के सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला राज्य बिहार है। यहां प्रति वर्ग किलोमीटर 1106 लोग रहते हैं। वहीं बिहार के शिवहर जिले में जनसंख्या घनत्व 1880 प्रति वर्ग किलोमीटर तक पहुंच गया।

2011 के जनगणना के अनुसार भारत के न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला राज्य अरुणाचल प्रदेश से जहां पर मात्र 17 लोग प्रति किमी में रहते हैं।

सर्वाधिक लिंगानुपात और न्यूनतम लिंगानुपात वाले राज्य

लिंगानुपात का उपयोग प्रति 1000 पुरुषों पर महिलाओं की संख्या का वर्णन करने हेतु किया जाता है। 2011 के जनगणना के अनुसार भारत के सर्वाधिक लिंगानुपात वाला राज्य केरल है जहां का लिंग अनुपात प्रति 1000 पुरुषों पर 1084 महिलाएं है।

वही बात की जाए न्यूनतम लिंगानुपात वाले राज्य की तो हरियाणा भारत का न्यूनतम लिंगानुपात वाला राज्य है यहां प्रति 1000 पुरुषों पर  मात्र 877 महिलाएं ही हैं। केंद्र शासित प्रदेश दमन दीव में लिंग अनुपात सबसे कम 618 है।

भारत के विभिन्न राज्यों के उच्चतम और न्यूनतम साक्षरता वाले राज्य

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (National Statistical Office) NSO के रिपोर्ट के अनुसार भारत का सबसे अधिक साक्षरता दर वाला राज्य केरल है। केरल की साक्षरता दर 96.2% है। केरल में पुरुषों की साक्षरता दर 97.4% एवं महिलाओं की साक्षरता दर 95.2% है।

इसके बाद बात की जाय भारत के न्यूनतम साक्षरता दर वाले राज्य की तो आंध्र प्रदेश भारत के सबसे कम साक्षरता वाला राज्य है जिस की साक्षरता दर मात्र 66.6% है। आंध्र प्रदेश की पुरुषों की साक्षरता दर 73.4% एवं महिलाओं की साक्षरता दर 59.5% है।

Bharat ki Jansankhya kitni hai FAQs :-

Q. 2023 में भारत की जनसंख्या कितनी है?

एक अनुमान के अनुसार 2023 में भारत की जनसंख्या 140 करोड़ा है। वर्तमान में भारत की जनसंख्या 140 करोड़ है जो जनसंख्या की दृष्टि से विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है, एवं जनसंख्या की दृष्टि से विश्व का सबसे बड़ा देश चीन है।

Q. पूरे भारत की आबादी कितनी है?

2011 के जनगणना के अनुसार पूरे भारत की आबादी 121 करोड़ थी, परंतु वर्तमान समय 2023 में यह अनुमान लगाया जा रहा है कि पूरे भारत की आबादी 140 करोड़ है।

Q. दुनिया में नंबर 1 जनसंख्या वाला देश कौन है?

चीन की कुल आबादी 145 करोड़ से अधिक है जो पूरे विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। जनसंख्या की दृष्टि से चीन दुनिया का नंबर एक जनसंख्या वाला देश है। एक अनुमान के अनुसार 2030 तक दुनिया का सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भारत बन सकता है।

Q. भारत में मुसलमानों की संख्या कितनी है?

2011 के जनगणना के अनुसार भारत में मुसलमानों की संख्या 17.22 करोड़ था। एक रिसर्च में यह बताया गया कि 2021 में भारत में मुसलमानों की जनसंख्या 21.30 करोड़ है। विश्व का 12.7% मुस्लिम भारत में रहते हैं। इसके साथ ही पूरे दुनिया में सबसे अधिक मुस्लिम इंडोनेशिया में रहते हैं।

Leave a Comment

x